+91 7275851002

About Us

Nehru Siksha Prasar Samiti

Nehru Shiksha Prasar Samiti mission is a non-profit organization registered in the year 2013 in UP. Since, its inception the organization has been working for a number of causes like the up liftmen of Children, Women, Aged and the Physically & Mentally challenged. It has been reaching out to the unprivileged and underprivileged children by providing them the means of education and has shown the women folk the way to empowerment through employment. It also has been campaigning for the Save Girl Child program me through awareness generation. The organization also believes that a lot of diseases could be prevented through awareness programs. Hence, it organizes Health Awareness Programs on Cancer, Leprosy, HIV/AIDS & other critical diseases. The organization also promotes programs like Save Environment and Water Conservation, conducts Relief activities during natural calamities, training & development, promote Art & Cultural, conducts Seminars on Dalit and Tribal Rights, Legal Rights and has been serving the people in various other ways.

संस्था द्वारा चलाई जा रही पररयोजना के मुख्य उद्देश्य

  1. कक्षा 1 से 5 तक के संस्था में पंजीकृत श्रमिक के ek बच्चों को निशुल्क ट्यूशन की व्यवस्था।
  2. ग्रामीण स्तर की श्रमिक महिलाओं को सिलाई कढ़ाई ब्यूटीशियन आज का प्रशिक्षण कराकर उनकी आयु में वृद्धि कराना।
  3. संस्था में पंजीकृत श्रमिक की लड़की की शादी में आर्थिक मदद प्रदान करना।
  4. संस्था में पंजीकृत श्रमिक की मृत्यु होने पर ₹3000 की तत्काल आर्थिक मदद देना।
  5. ग्राम पंचायत स्तर पर विकलांग जन श्रमिकों को ₹500 प्रति माह पेंशन उपलब्ध कराना।
  6. संस्था में पंजीकृत श्रमिक मित्र भाइयों को स्वावलंबी बनाना व रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना।
  7. संस्था की तरफ से प्रतिमाह नि:शुल्क आयुर्वेदिक दवा उपलब्ध कराना।
  8. आय सृजन योजनाओं के लिए सहायता और मार्गदर्शन करना।
  9. संस्था की तरफ से प्रतिमाह नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन कराना।
  10. संस्थान के द्वारा चलाई जा रही परियोजना जिसका मुख्य उद्देश्य समस्त राज्य/राष्ट्रीय स्तरीय योजनाओं की जानकारी पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाना अथवा उनको उनसे संबंध कराना।
  11. सभी श्रमिक मित्रो को श्रमिक कार्ड की योजनाएं संस्था द्वारा दिलाना।
  12. संस्था में पंजीकृत श्रमिक विधवा महिला एवं 60 वर्ष के ऊपर के पुरुष एवं महिलाओं के लिए वृद्ध पेंशन योजनाओं का लाभ दिलाना।
  13. संस्था में पंजीकृत श्रमिक को सरकारी योजनाओ का लाभ दिलाना

Zila Pariyojana Prabandhak (District Co-ordinator)

  1. परियोजना के लक्ष्य उद्देश्यों के साथ-साथ सरकारी और गैर सरकारी कार्यक्रमों एवं कार्य अवधि का ज्ञान होना.
  2. ब्लॉक स्तरीय, समस्त आंकड़ों और दस्तावेजों को उनको संस्था के नियमों और प्रावधानों के अनुरूप उच्च दस्तावेजों के साथ राज्य कार्यालय में से अग्रसारित करना जिससे कि उचित कार्यवाही की जा सके (इसमें विभिन्न अवसरों की नियुक्तियां इत्यादि भी शामिल है.)
  3. ब्लॉक स्तरों अंग में पंजीकृत श्रमिकों का पंजीयन श्रम विभाग में कराने के लिए आवश्यक सूचनाएं और दस्तावेजों का अवलोकन करने के पश्चात उनको जिला स्तरीय श्रम विभाग में पंजीकृत करने हेतु आवश्यक कार्यवाही करना एवं आवश्यक राज्य स्तरीय सहयोग की अपेक्षा करना.ना
  4. राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय उन योजनाओं की जानकारी जो विशेषकर श्रमिकों और उनके परिवार के लिए उनकी जानकारी समय-समय पर ब्लॉक स्तरीय/ पंचायत स्तरीय परियोजना प्रबंधकों एवं पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाना और उन योजनाओं से उनको संबद्ध कराने के आवश्यक प्रयास करना. (यह सब कार्य प्रशिक्षण और गैर प्रशिक्षण कार्यों के माध्यम से संभव होंगे).
  5. ब्लॉक स्तर पर पंजीकृत श्रमिकों का पंजीयन श्रम विभाग में कराने के लिए आवश्यक सूचनाएं और दस्तावेज जिला श्रम विभाग को उपलब्ध कराना और उनके प्रतिरूप अपने कार्यालय पर संरक्षित करना, इस संदर्भ में आवश्यक आदेशों, दस्तावेजों की मांग राज्य कार्यालय से करना.
  6. परियोजना से संबंधित सभी आवश्यक सूचनाओं का दस्तावेजीकरण कर उन्हें सुरक्षित और संरक्षित करना.
  7. संस्थान के उद्देश्यों और लक्ष्य की समय से प्राप्ति हेतु आपको अपने क्षेत्र के पंचायत स्तरीय परियोजना प्रबंधकों के कार्यों का भौतिक सत्यापन (50% प्रतिमाह) उनके क्षेत्रों में जाकर करना होगा, इसको लिखित दस्तावेज के माध्यम से आपको जिला स्तरीय परियोजना प्रबंधक को सूचित करना होगा.
  8. प्रतिदिन किए जाने वाले कार्यों का विवरण, निर्धारित प्रारूप में भरकर एक प्रति अपने पास रख कर एक प्रति राज्य कार्यालय को उपलब्ध कराना और एक प्रति अपने पास संरक्षित रखना.
  9. संस्थान के उद्देश्यों और लक्ष्यों की समय से प्राप्ति हेतु अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना जिसकी जानकारी संस्था के वरिष्ठ,कनिष्ठ अधिकारियों और क्षेत्र के हितग्राहियों द्वारा समय-समय पर ली जाएगी.
  10. यदि संस्था के वरीय अधिकारियों द्वारा यह पाया जाता है कि आप अपना कार्य संस्था के मानकों के अनुरूप नहीं कर रहे हैं तो सक्षम अधिकारी/ अधिकारियों द्वारा आप को नोटिस दिया जाएगा और यदि नोटिस का स्पष्टीकरण संस्था के नियम और आपको दिए गए कार्य विवरण के अनुरूप नहीं हुआ तो आपको पदमुक्त मुक्त कर दिया जाएगा.
  11. आपका कार्यकाल निश्चित प्रशिक्षण के पश्चात प्रारंभ होगा. आपका कार्यकाल संस्था द्वारा यह अवधि तय अवधि के लिए होगा. अग्रिम कार्यकाल आपके प्रदर्शन एवं लक्षित और उद्देश्यों की प्राप्ति के आधार पर सुनिश्चित किया जाएगा.

Contact For Joining

Eastern UP

Nehru Siksha Prasar Samiti,
Arjunpur Mirzapur U.P.231001,
PH: 7275851002, 8299028442

Western UP

Mr Karan [ Bala ji Consultancy, Bareilly ]

Phone: 7456853828

Abhishek Singh [ Lucknow ]

Phone: 7905251601

Jaya Yadav [ State co-ordinator ]

Phone: 9125018300

Block pariyojana prabandhak (Block Co ordinator)

  1. परियोजना के लक्ष्य उद्देश्य एवं कार्य विधि का ज्ञान होना
  2. पंचायत स्तरीय योग्य परियोजना प्रबंधको एवं शिक्षिकाओं की पहचान कर उनको संस्था के नियम और प्रबंध प्रावधानों के अनुरूप उचित दस्तावेजों के साथ जिला परियोजना प्रबंधक को अग्रसारित करना जिससे कि जिला परियोजना प्रबंधक उनकी नियुक्ति के लिए सभी दस्तावेज राज्य स्तरीय सक्षम अधिकारी को प्रेषित कर सकें
  3. पंचायत स्तर में पंजीकृत श्रमिकों का पंजीयन श्रम विभाग में कराने के लिए आवश्यक सूचनाएं और दस्तावेज जिला परियोजना प्रबंधक को उपलब्ध कराना
  4. राष्ट्र और राज्य स्तरीय उन योजनाओं की जानकारी, जो विशेषकर श्रमिकों और उनके परिवार के लिए है उनकी जानकारी समय-समय पर पंचायत स्तरीय परियोजना प्रबंधक एवं पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाना और उन योजनाओं से उनको संबद्ध कराने के आवश्यक प्रयास करना.
  5. पंचायत स्तर पर पंजीकृत श्रमिकों का पंजीयन श्रम विभाग के में कराने के लिए आवश्यक सूचनाएं और दस्तावेज जिला परियोजना प्रबंधक उपलब्ध कराना और उनके प्रतिरूप अपने कार्यालय पर संरक्षित करना.
  6. परियोजना से संबंधित सभी आवश्यक सूचनाओं का दस्तावेजीकरण कर उन्हें सुरक्षित और संरक्षित करना.
  7. संस्थान के उद्देश्यों और लक्ष्यों के समय से प्राप्ति हेतु आपको अपने क्षेत्रों के पंचायत स्तरीय परियोजना प्रबंधकों के कार्य का भौतिक सत्यापन (50% प्रतिमाह) उनके क्षेत्रों में जाकर करना होगा. इसको लिखित दस्तावेज के माध्यम से आपको जिला स्तरीय परियोजना प्रबंधक को सूचित करना होगा.
  8. प्रतिदिन की जाने वाली कार्यों का विवरण, निर्धारित प्रारुप में भरकर एक प्रति अपने पास रख कर प्रति जिला परियोजना प्रबंधक को उपलब्ध कराना और एक प्रति आपके पास संरक्षित रखना.
  9. संस्थान के उद्देश्यों और लक्ष्य की समय से प्राप्ति हेतु अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना जिसकी जानकारी संस्था के वरिष्ठ, कनिष्ठ अधिकारियों और क्षेत्र के हितग्राही द्वारा समय-समय पर ली जाएगी.
  10. यदि संस्था के वरीय अधिकारियों द्वारा यह पाया जाता है कि आप अपना कार्य संस्था के मानकों के अनुरूप नहीं कर रहे हैं तो सक्षम अधिकारी अधिकारियों द्वारा आपको नोटिस दिया जाएगा और यदि नोटिस का स्पष्टीकरण संस्था के नियमों आप को दिए गए कार्य विवरण के अनुरूप नहीं हुआ तो आपको पद मुक्त कर दिया जाएगा.

Gram Panchayat Mitra (GPM)

  1. परियोजना के लक्ष्य उद्देश्य एवं कार्य विधि का ज्ञान होना
  2. पंचायत स्तरीय योग्य परियोजना प्रबंधको एवं शिक्षिकाओं की पहचान कर उनको संस्था के नियम और प्रबंध प्रावधानों के अनुरूप उचित दस्तावेजों के साथ जिला परियोजना प्रबंधक को अग्रसारित करना जिससे कि जिला परियोजना प्रबंधक उनकी नियुक्ति के लिए सभी दस्तावेज राज्य स्तरीय सक्षम अधिकारी को प्रेषित कर सकें
  3. पंचायत स्तर में पंजीकृत श्रमिकों का पंजीयन श्रम विभाग में कराने के लिए आवश्यक सूचनाएं और दस्तावेज जिला परियोजना प्रबंधक को उपलब्ध कराना
  4. राष्ट्र और राज्य स्तरीय उन योजनाओं की जानकारी, जो विशेषकर श्रमिकों और उनके परिवार के लिए है उनकी जानकारी समय-समय पर पंचायत स्तरीय परियोजना प्रबंधक एवं पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाना और उन योजनाओं से उनको संबद्ध कराने के आवश्यक प्रयास करना.
  5. पंचायत स्तर पर पंजीकृत श्रमिकों का पंजीयन श्रम विभाग के में कराने के लिए आवश्यक सूचनाएं और दस्तावेज जिला परियोजना प्रबंधक उपलब्ध कराना और उनके प्रतिरूप अपने कार्यालय पर संरक्षित करना.
  6. परियोजना से संबंधित सभी आवश्यक सूचनाओं का दस्तावेजीकरण कर उन्हें सुरक्षित और संरक्षित करना.
  7. संस्थान के उद्देश्यों और लक्ष्यों के समय से प्राप्ति हेतु आपको अपने क्षेत्रों के पंचायत स्तरीय परियोजना प्रबंधकों के कार्य का भौतिक सत्यापन (50% प्रतिमाह) उनके क्षेत्रों में जाकर करना होगा. इसको लिखित दस्तावेज के माध्यम से आपको जिला स्तरीय परियोजना प्रबंधक को सूचित करना होगा.
  8. प्रतिदिन की जाने वाली कार्यों का विवरण, निर्धारित प्रारुप में भरकर एक प्रति अपने पास रख कर प्रति जिला परियोजना प्रबंधक को उपलब्ध कराना और एक प्रति आपके पास संरक्षित रखना.
  9. संस्थान के उद्देश्यों और लक्ष्य की समय से प्राप्ति हेतु अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना जिसकी जानकारी संस्था के वरिष्ठ, कनिष्ठ अधिकारियों और क्षेत्र के हितग्राही द्वारा समय-समय पर ली जाएगी.
  10. यदि संस्था के वरीय अधिकारियों द्वारा यह पाया जाता है कि आप अपना कार्य संस्था के मानकों के अनुरूप नहीं कर रहे हैं तो सक्षम अधिकारी अधिकारियों द्वारा आपको नोटिस दिया जाएगा और यदि नोटिस का स्पष्टीकरण संस्था के नियमों आप को दिए गए कार्य विवरण के अनुरूप नहीं हुआ तो आपको पद मुक्त कर दिया जाएगा.

हमारा उद्देश्य

हमारे पास ऐसे लोगों को विकसित करने का एक मजबूत मिशन है, जो आर्थिक समस्या या संसाधनों की अनुपलब्धता के कारण आधुनिक शिक्षा से दूर हैं और युवा पीढ़ी, विशेषकर लड़कियों और युवाओं को व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। हम, एक संगठन के रूप में छोटे से गाँवों और कस्बों में केंद्रों के एक मजबूत नेटवर्क के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक लागत के साथ कंप्यूटर शिक्षा प्रदान करने के लिए जाने जाते हैं। हम इस प्रकार की शिक्षा प्रदान कर रहे हैं, जो जीवन, आयु और कार्य स्थान के प्रत्येक चरण में आवश्यक है। हमारे अच्छी तरह से प्रशिक्षित कर्मचारी ऐसी व्यावहारिक शिक्षा देने के लिए तैयार हैं, जिसकी आवश्यकता एक छात्र, गृहिणी और व्यवसायी को होती है; सेवानिवृत्त व्यक्ति, कर्मचारी, स्व-नियोजित, किसान, अशिक्षित व्यक्तिआदि

कल्याणकारी योजनाये

उत्तर प्रदेश में स्थित पंजीकृत कारखानों औद्योगिक प्रतिष्ठानों में कार्यरत श्रमिकों तथाउनके आश्रितों के हितार्थ कल्याणकारी योजनाये

गनेश शंकर विधार्थी पुरुस्कार राशि

विज्ञप्ति के अनुसार, हिंदी पत्रकारिता तथा जनसंचार के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए शीला

ज्योतिबा फुले कन्यादान योजना

सहायक श्रम आयुक्त गौतम गिरि के मुताबिक ज्योतिबा फुले कन्यादान योजना में कन्या के विवाह

दत्तोपंत ठेंगड़ी मृतक अंत्येष्टि सहायता

श्रम विभाग के अधिकारियों, कारखाना प्रभाग के अधिकारियों, औधिगिक संगठनों, व्यापारिक

राजा हरिशचन्द्र मृतक आश्रित सहायता योजना

श्रमिक उ.प्र. में स्थित कारखाना अधिनियम, 1948 के अंतर्गत पंजीकृत अधिष्ठान में कार्यरत हो

डॉ० ए०पी०जे० अब्दुल कलाम प्राविधिक शिक्षा सहायता योजना

श्रमिक उ.प्र. में स्थित कारखाना अधिनियम, 1948 के अंतर्गत पंजीकृत अधिष्ठान में कार्यरत हो

दत्तोपंत ठेंगड़ी मृतक अंत्येष्टि सहायता योजना